Tuesday, 21 May 2019

शिव कुमार शिव के कुछ नवगीत

उत्तरप्रदेशकेसोनभद्रके  सुपरिचितग़ज़लकारऔरगीतकारशिवकुमारशिवके 
कुछगीतयहाँप्रस्तुतकररहाहूँयेनवगीतहीहैं 
सुधेश 


                           गीत  

सुखसारे 
स्वप्नहोगये
दुखढोईगली-गलीजिन्दगी। 
          रक्तहुई     सतरंगी  शाम
          कहरउठीभोरकीकिरन। 
          मनमेरा      रामकीतरह
          ढूँढरहा      कंचनीहिरन। 
तरसगई 
छाँवकेलिए
सदियोंकीधूपपलीजिन्दगी। 
           दबीदबीअंतस  कीचाह
            थकेथकेसाहसकेपाँव। 
            मनकासंकोचहोविवस
            हारगया   अपनेसेदाँव। 
वक्तकी
निगाहयूँपड़ी
कागजकीभाँतिजलीजिन्दगी। 
            मौसमनेरुखबदललिया
            पानीसेउबलगयेलोग। 
            खुशियोंकी   कामनामेरी,
            कितनेदुख  दर्दरहीभोग।    
आशाके
पुष्पझरगये
सूरजसीसाँझढलीजिन्दगी। 
             मैंनेतोप्यार     हीदिया
             नफरतकेशूलसहगये। 
             मनमेंउत्साह   जोजगे
             अन्तसके  बीचरहगये। 
किस्मतने
हीदियादगा
अपनेहीआपछलीजिन्दगी। 
             एकमधुर  बोलकेलिए
             अधरोंकीप्यासरहगई। 
             पहलेकी  भाँतिभावना
             आजभी  उदासरहगई। 
पंथवही
पाँवथकगये
मद्धमहीचालचली

                        
                      (   2      ) 

घरघर   हमने  दियेजलाये
मंदिरमंदिर   आरतीउतारी 
प्यारकेबदलेप्यारपाया,
यहकैसा     संसारहोगया। 
        दुखकेकाँटे     मिलकरबाँटे
        कोईऐसा   मनुज     देखा। 
        सुखकासूरजयहाँनिकला
        झूठहुई      किस्मतकीरेखा। 
आँगनआँगन  चाँदउगाये
देहरीदेहरीअलखप्रभाती। 
रातगयेपर   सपनाआया
आतेहीभिनसार  होगया। 
          सपनोंमेंअसीमखुशियाँथी
          नींदखुली     दुखबैठाद्वारे। 
          तमसेढकती     गईजिन्दगी
          इकइक    बुझतेगयेसितारे। 
हाथोंहाथों      स्नेह  उलीचे
पलकोंपलकोंस्नेहसजाए। 
किसीपेड़कीमिलीछाया
बेमौसम    पतझारहोगया। 
            दुखमेंकिसनेसाथनिभाया
            कहनेकोयहजगअपनाहै। 
            सचयथार्थ    सेसभीपरेहैं
            सपनातोआखिरसपनाहै। 
जनजन     हमनेगले  लगाये
उम्रउम्रतक     साथ  निभाये। 
लेकिनश्रमबलिदानत्यागसब
अंतसमय    निःसारहो  गया। 

                 (  3)
पहलीकिरनतुम्हारेआँगन,
पहलादीप      तुम्हारेद्वारे। 
            मनकी   बातेंमनहीजाने
            कितनीनेह  दुआयेंतुमको।
            सबकुछदेने    कोआतुरहैं
            कितनीअभिलाषाएंँतुमको। 
पहलीबौरतुम्हारीबगिया
पहलाफूल  बसन्तबहारें। 
             जीवनकीआखिरक्यासीमा
             अंतकहाँ    कबयहहोजाये। 
             क्योंबैठकरहंंसले   गालें,
              मिलावक्तक्योंव्यर्थगवायें। 
पहलीबूँद     तुम्हारेआँगन
कोयलगीतसाँझ-भिनसारे। 
              सुननेकोफिरमनआतुरहै
              पनघटपर   पायलकेबोल। 
              शब्द   प्यारके     ऐसेबोलो
              पत्थरका    मनजाएडोल। 
पहलीदृष्टि    तुम्हारेआनन
स्नेहहृदयकीझीलकिनारे। 
               मेरेगीत      तेरेअधरोंके
               जानेये   कबकेहैंप्यासे। 
               कटुताकीहैदरदरछाया
               स्नेहतेरेबिनकहाँतलाशें। 
पहलीनींदतुम्हारेछाजन
साराजीवन     तेरेसहारे। 
                 गलीगलीखुशियोंकीवर्षा
                 सारेपथ    बिछजायेंफूल। 
                 आगतकामनसेस्वागतकर
                 जानेवाले     कादुखभूल। 
तुमभीपाँवबढ़ाओपावन
हमभीअपने   पाँवपसारें।                        


                     (   4 ) 

पथसेवापस                                           दृष्टिलौटी
       पावसकेपलछिनबीतगये
                 एकतुम्हाराआश्वासनफिर
                 आतुरमेरा    मन।
                 उत्तेजितकर     रहेभोरके,
                 आये    हुएसपन। 
पतझड़के       
पेड़ोनेपहने
पत्तेनये-नये। 
                  सुधियोंकीचौखटपरदस्तक
                  देनेलगाअतीत। 
                  मुखरगये     जानेअनजाने 
                  भूलेबिसरेगीत। 
आशाओंके 
बिषमप्रहरमें
जलतेरहेदिये। 
                   क्षणक्षणअपनीलगेप्रतीक्षा
                   कईबरसकीआस।
                    आनेवालाकबतकआये
                    कबतकसिसकेप्यास। 
मनउदास
किसकेसंबलपर
अपनीउम्रजिये। 


                      (   5  ) 

छाँवकेतले
***********
छाँवकेताले
पाँवहैं   जले।

फूलहाथके,
शूलहोगये। 
स्नेहऔरप्यार
लोगखोगये। 

फिरलरजगईं,
मनकीकोपलें। 

मैंनेकुछकहा
तूनेकुछसुना। 
बातहो   गई
सबहीअनमना। 

वृक्षस्नेहका
किसतरहफले। 

फिरजलेनहीँ
घरकिसीदिये। 
आँधियोंनेयों
फैसले   लिये। 

रातआहकी
यूँकहाँ   ढले। 

खोगई    कहीं
आसकीकिरन। 
वर्फपर    चले,
जलगयेचरन। 

श्वेततनबदन
मनकेसाँवले। 


शिवनारायणशिव 
नई,बस्ती,रावर्ट्सगंज 
जिलासोनभद0प्र 
मोबाइलनं9450965898 

No comments:

Post a Comment

Add

शिव कुमार शिव के कुछ नवगीत

उत्तर प्रदेश के सोनभद्र के     सुपरिचित ग़ज़लकार और गीतकार शिव कुमार शिव के   कुछ गीत यहाँ प्रस्तुत कर रहा हूँ । ये नवगीत ही हैं ।   स...