Sahityayan

Sunday, 9 December 2012

कुछ मुक्तक

                            कुछ मुक्तक 

    आँसू दिल की भाषा है 
    घुटी घुटी अभिलाषा है
     प्यार जिसे कहते ंउस की 
     यह प्यारी परिभाषा  है ।
                 तम की निशा निराशा है 
                 प़ात: लाती आशा है 
                 इन्द़धनुष सा सतरंगी
                 दुनिया एक तमाशा है  ।
     दिल का दिल से संवाद है 
     यह वाद नहीं न विवाद है 
     इस घायल दिल में दर्द जो 
     कविता ंउस का अनुवाद है ।
                   दुनिया में द्वन्द्व  विवाद है 
                   वह युद्धों से बर्बाद है  
                    बस प्यार जहाँ मेहमान है 
                      दिल की बस्ती आबाद है ।
    आज कल क्या कहें रिंश्तों से 
     अर्थ में तब्दील रिश्तों से 
     आदमीयत की चमक ग़ायब
    शक्ल से दिखते फ़रिश्तों  से ।
                   प्यार दिखता  कहाँ रिंश्तों  में 
                    स्वाद किश्मिश में न पिस्तों में 
                    जो धरे हैं ंउच्च सिंहासन 
                     गिने जाते हैं फ़रिश्तों में । 
--सुधेश