Sahityayan

Saturday, 8 December 2012

मेरी कुछ ग़ज़लें

  हमारे वास्ते आसानियाँ  हैं
  तभी सब के लिए दुश्वारियां हैं ।
  उन्हीं के शीश पर हैं दु:ख सारे
  तभी तो हमें सब आसानियाँ हैं ।
  नयन से बरसात झरती आज कल
  गई क्यों सूख दिल की क्यारियाँ हैं ।
  बड़ा है शोर उन्नति का शहर में
  किसी घर में मगर ख़ामोशियाँ हैं ।
  यहाँ तो मासूम चेहरों पर खिली
  हँसी है और बस नादानियाँ हैं ।
  ग़मों को खा पीते रहे आँसू
   हमारी ज़िन्दगी हैरानियाँ है ।
                                        कुछ सुन्दर सुन्दर चेहरे हैं
                                        पर सिर्फमुखौटे   चेहरे हैं  ।
                                           सब को वाणी का सुख देते
                                         उन के कान मगर बहरे हैं  ।
                                       उन के चरित्र दुहरे तिहरे
                                        पर उन के बदन इकहरे हैं ।
                                         चारा चीनी सब खा जाते
                                         उन के दाँत सुनहरे हैं  ।
                                         कैसे जाऊँ  दर्द  सुनाने
                                         उन के कुत्तों के पहरे हैं ।
यहाँ आंख ग़नगीन दिल में ख़ुशी है
यही ज़िन्दगी है यही ज़िन्दगी है ।
नहीं है कमी फूल कलियाँ बहुत हैं
कमी है अगर सिर्फ तेरी कमी है ।
यहाँ जन्नतों के फ़रिश्ते बहुत हैं
नहीं दीखता पर कहाँ आदमी है ।
यहाँ ंखून आँसू की नदिया किनारे
बड़ी सुबह होती खुदा बन्दगी है
नहीं नींद शब में नहीं चैन दिन में
यही आशिक़ी है यही ंआशिक़ी है ।
ग़मे दिल कंभी फिर ज़माने के दुखड़े
यही तो ग़ज़ल है यही शायरी  है ।

--सुधेश