Sahityayan

Sunday, 13 January 2013

कुछ नई ग़ज़लें

                 

         मुहब्बतें ही यहाँ मुहब्बतें मुहब्बतें 
          ज़िन्दगी की यही हैं  राहतें  राहतें ।
बनाओगे कब तक यों दुनिया  को दोज़ख़ 
चलेंगी कहाँ  तक ये नफरतें नफरतें ।
          उम़ भर आरज़ू का सफ़र चलचलाचल 
           आख़िरी वक़्त भी बची हसरतें हसरतें  ।
उम़ भर पालते ही रहे दुश्मनी को 
मरने के बाद ज़िन्दा रहीं ये चाहतें  ।
            नहीं वक़्त लगता है रुसवाई में तो 
             यहाँ मरने पर ही मिलती  हैं इज़्ज़त्तें  ।

पीपल के नीचे दिया जले 
विरहन का मानो जिया जले ।
              जो किसी याद में खोई सी 
               मेरी आँखों में दिया जले ।
रावण लंका में गरज रहा 
उपवन में बैठी सिया जले ।
                प़ीतम विदेश में खटता है 
                  घर में घुटती राबिया जले ।
जंगल में घोर अंधेरे को 
आलोकित करने दिया जले  ।
                  पीपल पर भूतों का डेरा 
                  क्या उन्हें भगाने दिया जले ।
पीपल पर दुबके हैं पंछी 
उन को शंका आशियाँ जले । ।
                   दीपक से आग  चुरा कर के 
                    पटना राँची हल्दिया जले । ।    ( सुधेश  )