Sahityayan

Sunday, 7 April 2013

मेरे गीत निराश न होना

                                  मेरे गीत निराश न होना

                    मेरे गीत निराश न होना 
                     रहना जुड़ कर ही ज़मीन से 
                    ऊर्ध्वमूल आकाश न होना ।
माना यान्त्रिक जटिल समय है 
घोर अभावुकता अतिशय है 
मेधा हावी , पर मनुष्य का 
अब भी भावों भरा हृदय  है ।
                      तू संलग्न सृजन से रहना 
                      रचना का अवकाश न होना ।
अधुनातनता को बहने दे 
वैज्ञानिकता को कहने दे 
बस मनुष्य मन का संवेदन 
आदिम राग बना रहने दे ।
                       अप़़तिहत रह आघातों से 
                        रचना विमुख अभाष न होना ।
मन यन्त्रों का दास नहीं हो 
कुण्ठा का आवास नहीं हो 
रह स्वतन्त्र संज्ञा तू सुख की 
दुख का  द्वन्द्व  समास नहीं हो ।
                       पाटल ही बनना गन्धायित
                        तू निर्गन्ध  पलाश न होना ।
लास्य लगाव नहीं बदलेगा 
मूल स्वभाव नहीं बदलेगा 
बदले भले विचार बुद्धि , पर 
मौलिक भाव नहीं बदलेगा ।
                       पलने की डोरी बनना तू 
                       महा मृत्यु का पाश न होना । 
-- चन्द़ सेन विराट